Mulayam Singh Yadav: अमरोहा से भी रहा नेताजी मुलायम सिंह यादव का खास जुड़ाव


बीते सोमवार सुबह नेताजी और धरती पुत्र के नाम से जाने जाने वाले जननेता समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। इस गमगीन माहौल में हर कोई नेताजी से जुड़ी याद साझा कर रहा है। इसी कड़ी में अमरोहा से भी उनकी कई यादें जुड़ी हैं। अमरोहा के गजरौला को एक गांव से औद्योगिक नगरी में तब्दील करने का श्रेय मुलायम सिंह यादव को ही जाता है। रमाशंकर कौशिक के निवेदन पर ही सन् 1980 के दशक में गजरौला को औद्योगिक नगरी घोषित किया गया था। सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के घनिष्ठ सहयोगी रहे स्वर्गीय रमाशंकर कौशिक प्रदेश स्तर की राजनीति में काफी समय तक एक प्रभावशाली भूमिका में रहे। इनके प्रयासों से यहां औद्योगिक इकाइयां लगती गईं। 

मुलायम सिंह यादव जिला अमरोहा के गांव पपसरा निवासी स्वर्गीय चंद्रपाल सिंह के बेहद करीबी माने जाते हैं। सन् 1989 में मुलायम सिंह यादव पहली बार मुख्यमंत्री बने थे तो वह पूर्व कैबिनेट मंत्री चंद्रपाल सिंह से मिलने उनके गांव पपसरा पहुंचे थे। एक और किस्सा जब 2015 में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव की कुर्सी पर काबिज होने के लिए कैबिनेट मंत्री महबूब अली और पूर्व कैबिनेट मंत्री चौधरी चंद्रपाल सिंह के बीच खींचतान चल रही थी तब भी नेताजी ने महबूब अली की पत्नी सकीना बेगम का टिकट काटते हुए चंद्रपाल सिंह की पुत्रवधू रेनू चौधरी को सपा प्रत्याशी घोषित किया था। उस समय चंद्रपाल सिंह के साथ कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर, विधायक अशफाक अली और पूर्व सांसद देवेंद्र नागपाल समर्थन में थे। नेताजी के साथ उनके रिश्ते तबसे खास हुए जबसे 1989 में लोकदल से उन्हें अमरोहा लोकसभा सीट से टिकट नसीब नहीं हुआ, तब मुलायम सिंह यादव ने कांठ विधानसभा सीट से उन्हें टिकट दिलवाया जिसमें चंद्रपाल सिंह के जीते और नेताजी के पसंदीदा बन गए थे।

 बछरायूं के समाजवादी और लोहियावादी मूल्यों के संरक्षक सूफी आबिद अली के साथ भी नेताजी के रिश्ते बहुत मधुर थे। सूफी आबिद अली क्षेत्र में समाजसेवी के तौर पर जाने जाते थे। मुलायम सिंह यादव से भी उनका गहरा याराना था, आपातकाल घोषित होने के बाद मुलायम सिंह यादव के साथ जेल जाने वाले शख्स सूफी आबिद अली ही थे। समाजवादी पार्टी के बुरे वक्त में भी उन्होंने मुलायम सिंह का साथ नहीं छोड़ा था। सूफी आबिद अली के निवेदन पर पहली बार मुलायम सिंह यादव 2003 में बछरायूं आए थे जहां उन्होंने आश्चर्यजनक रूप से 50 बेड के अस्पताल की सौगात दी थी।

वहीं कई सरकारों के मंत्रालयों में अहम स्थान रखने वाला जनपद अमरोहा इस बार योगी सरकार 2.0 में अपना स्थान नहीं बना पाया लेकिन समाजवादी सरकार में अमरोहा का दबदबा सर्वाधिक कायम रहा। रमाशंकर कौशिक, चौधरी चंद्रपाल सिंह, महबूब अली के अलावा कमाल अख्तर आदि ने कई मंत्री पदों को सुशोभित किया। कमाल अख्तर की राजनीति में एंट्री खुद समाजवादी पार्टी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने ही कराई थी। मुलायम सिंह ने कमाल अख्तर को समाजवादी युवजन सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाकर साल 2004 में सीधे राज्यसभा भेजा था। कमाल अख्तर के लिए यह उनकी कम उम्र में बड़ी उपलब्धि थी।

 (प्रत्यक्ष मिश्रा अमरोहा स्थित स्वतंत्र पत्रकार हैं। लेखक राजनीतिक, साहित्यिक एवं समसामयिक मुद्दों पर लिखते हैं)


ईमेल - prataykshmishra@gmail.com

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अमरोहा की एक सुबह - 1947

ब्लॉग: वो दो शख्सियतें जिन्हें इन्दिरा ताउम्र नहीं भुला पाईं - Hindustan Posts

KashmiriPandits: कश्मीरी पंडितों की त्रासदी का जिम्मेदार कौन कांग्रेस या भाजपा ?